Shri Shantilal Kawar

President – JITO Apex

वर्ष 2000 से 2007 के बीच विभिन्न बुद्धिजिवियों और संघों के साथ विचार विमर्श के पश्

चात् एक दीर्घगामी रणनीति के आधार पर एक स्वपनीले भविष्य की संस्था का निर्माण हुआ उसका नाम है जीतो।

हम तभी से लगातार विकास की ओर अग्रसर हैं और हमारे सपने बहुत बड़े हैं वैश्विक परिस्थितियां एवं सामाजिक सोच भी लगातार बदल रही है। लेकिन यह तय हो चुका हैं कि हम जीतो संस्था के माधयम से विश्व का सर्वश्रेष्ठ समुदाय बनेंगे। हमारे सपने विराट हैं, असीम हैं, और हमें बहुत बड़े रास्ते तय करने हैं । इसी तारतम् य में, मैं अपनी भावनाऐं जो रणकपुर में विज़न २०२० में व्यक्त की थीं, आपके साथ शेयर करना चाहूँगा....

हम विश्व क्षितिज पर जिन शासन का ध्वज लहराने आये हैं

नई क्रांति का आज यहाँ हम, बिगुल बजाने आये हैं।

जैन जगत के स्वप्न सभी, हम साकार करने आये हैं,

अपने जीवन का उत्कृष्ट किरदार, हम आज निभाने आये हैं,

जीतो को अपने मनभावन सुरताल से आज हम सजाने आये हैं श्रेष्ठ को सर्वश्रेष्ठ हम आज यहाँ बनाने आये हैं,

लेकर दृढ़ संकल्प हमने हमको ही आज हुँकारा है,सच कहता हूँ हमको, हमारे जमीर ने आज पुकारा है,

इसीलिए तो हमने कुछ कर दिखाने की मन में ठानी है,सदियाँ याद करे हमको, ऐसी लिखनी आज कहानी है ।

इन पंक्तियों में एक अद्भुत कल्‍पना है और उसी कल्‍पना के अनुरुप विज़न २०२० में कई नये संकल्‍प व कार्यक्रम उद्घाटित हुए हैं। अतः जीतो को समय और काल के साथ एक व्‍यवस्‍था और तकनीक के अंतर्गत सभी कार्यक्रमों को क्रियान्वित करना होगा.

बंधुओं, कोई भी संस्था व्यवस्था के अभाव में विकास के रास्ते तय नहीं कर सकी। यह हमारा संकल्प हैं कि किसी भी तरह की अव्यवस्था अपेक्स, ज़ोन या चैप्टर स्तर पर नहीं रहे। अतः यह नितान्त आवश्यक है कि एक व्‍यवस्‍था के साथ केंद्रीय सचिवालय व चैप्‍टर का प्रबंध संचालित होना चाहिए. यह हमारा लक्ष्‍य है कि जैन कुल में जन्म लेने वाला हर व्यक्ति विश्व का सफलतम नागरिक बने और सफलता की इस राह में जीतो उसके सम्पूर्ण सिस्टम का तंत्र बनाऐ । हमें निश्चित रुप से...

नयी क्रांति की लिए मशाल अब आगे बढ़ते जाना है ।

जैन उत्कर्ष और विकास के हर शिखर पर ऊपर बढ़ते जाना है।

नव सृजन के नए स्वप्न, नैनोमें गढ़ते जाना है।

जैन उत्कर्ष की पुस्तक का हर पृष्ठ पढ़ते जाना है।

हमारे सभी लक्ष्यों को पूरा करने के लिए चैप्टर ओरिएंटेशन प्रोग्राम का यह सत्र अत्यन्त महत्वपूर्ण है। आप सभी के सक्रिय सहयोग एवं सहभागिता के साथ हम निश्चित रूप से रणकपुर में हुए विज़न २०२० के दौरान तय की गयी प्राथमिकताओं मूर्तरूप देने में निश्चित रूप से सफल होंगे । बंधुओं, याद रखिये कि...

जीवन में विश्वास रहे तो धरती अम्बर मिल सकते है।

बाजू की ताकत के आगे ऊँचे पर्वत हिल सकते है।

चाह यदि दिल में हो सच्ची और इरादा हो यदि पक्का।

तो मधुबन तो क्या मरुस्थल में भी फूल हजारो खिल सकते है।